Showing posts with label FINANCE. Show all posts
Showing posts with label FINANCE. Show all posts

घर में रखे सोने से कमाई करे डबल,देश का सबसे बड़ा बड़ा बैंक दे रहा है सोने पे डबल कमाई

 घर में रखे सोने से कमाई करे डबल,देश का सबसे बड़ा बड़ा बैंक दे रहा है सोने पे डबल कमाई |

सोने में पैसा निवेश करने वाले लोग घर में ही अपना सोना रखना चाहते है व घर में ही सोने को सुरक्षित मानते है ,लेकिन बैंक में सोना रखने के भी अनेक फायदे है 

                             सोना खरीदना और उसमे निवेश करना भारतीयों की पहली पसंद है | सोने में निवेश करना लंबे और अधिक समय तक सुरक्षित माना जाता है| सोने में पैसा निवेश करने वाले लोग घर में ही अपना सोना रखना चाहते है व घर में ही सोने को सुरक्षित मानते है ,लेकिन बैंक में सोना रखने के भी अनेक फायदे है ,आज भी लोग सोने को किसी और के पास नहीं रखना चाहते है ,भले हो वो रिश्तेदार और बैंक ही क्यों ना हो |

                            आज के समय में देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई सोने पर निवेश करने वालो के लिए डबल कमाई करने के लिए एक स्कीम लेकर आया है |


जानिए इस स्कीम के जरिए आपको निवेश करने पर कैसे डबल फायदा मिलेगा ?

भारत का सबसे बड़ा सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया(SBI) आपके लिए एक स्कीम लेकर आया है जिसका नाम बैंक ने गोल्ड डिपोजिट स्कीम (GOLD DEPOSIT SCHEME ) रखा है |

                           गोल्ड डिपोजिट स्कीम (GOLD DEPOSIT SCHEME ) के दो बड़े फायदे है - सबसे पहला फायदा  आपके सोने की बैंक स्वयं जिम्मेवारी लेता है , दूसरा फायदा इस सोने के जरिए कमाई भी की जा सकती है | आमतोर पर लोगो को यही लगता है की उनका सोना सिर्फ बैंक में रखा हुआ है किन्तु   गोल्ड डिपोजिट स्कीम (GOLD DEPOSIT SCHEME ) के आपके बैंक में जमा सोने पर कमाई भी की जा सकती है |


आइए जानते है कैसे इस स्कीम का फायदा बैंक में जमा  सोने पर कैसे  लिया जा सकता है ? 

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया(SBI) की रिवैम्पड गोल्ड डिपोजिट स्कीम (R-GDS) के जरिए  जमा सोने पर कमाई की जा सकती है |

इस  स्कीम के जरिए आपको बैंक में कम से कम 30 ग्राम सोना बैंक में जमा करवाना होता है ,वाही दूसरी तरफ सोना जमा करवाने की अधिकतम कोई सीमा नहीं है |आप अपनी मर्जी से चाहे जितना सोना इस स्कीम के जरिए बैंक में जमा करवाकर कमाई कर सकते है |आप बैंक में सिंगल या जॉइंट खाता खुलवाकर इस स्कीम के जरिए कमाई करने का फायदा ले सकते है |


इस स्कीम में सोना जमा करवाने की समय अवधि या कितने समय तक इस स्कीम में सोना जमा रखा जा सकता है ?

 गोल्ड डिपोजिट स्कीम (GOLD DEPOSIT SCHEME ) के तहत 3 तरह की अवधि के लिए सोना जमा कर सकते है |

1 -  शोर्ट टर्म बैंक डिपोजिट - इसमें  सोने को 1 से 3 साल के लिए रखा जा  सकता है |

2 - मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपोजिट - इसमें सोने को 5 से 7 साल के लिए जमा रखा जा सकता है|

3 - लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपोजिट - इसमें सोने को 12 से 15 साल के लिए बैंक के पास जमा रखा जा सकता है |  


अब बात करते है जमा सोने पर कितना ब्याज मिलेगा ?

शोर्ट टर्म बैंक डिपोजिट में 1 से 2 साल के लिए 0.55 परसेंट ब्याज मिलता है ,वही 2 से 3 साल के लिए जमा रखने पर 0.60 परसेंट की दर से ब्याज मिलता है |

मीडियम टर्म गवर्नमेंट डिपोजिट - 5 से 7 साल की अवधि पर 2.25 परसेंट का ब्याज मिलता है |

लॉन्ग टर्म गवर्नमेंट डिपोजिट - 12 से 15 साल के लिए सोना रखने पर 2.50 परसेंट का ब्याज मिलता है |

 

बैंक में सोना जमा करवाने के लिए क्या करना होगा ?

सोने को जमा करवाने के लिए SBI बैंक की किसी भी ब्रांच में इस स्कीम के तहत खाता खुलवाया जा सकता है |

                  कस्टमर को अपनी KYC के लिए एक आईडी और पत्ते का प्रूफ और इस स्कीम से सम्बंधित फॉर्म भरकर बैंक में जमा करवाना होगा |

     इस स्कीम से जुडी हुई अधिक जानकारी के लिए आप SBI बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट www.onlinesbi.com या नीचे दिए गए लिंक से भी जानकारी प्राप्त कर सकते है - click here

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना


  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने अपने पहले कार्यकाल के उपरांत किसानों को आर्थिक संभल प्रधान करने के अपने संकल्प पत्र में किसानों की आय को बढ़ाने पर विशेष बल दिया था| जब मोदी सरकार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आई तो अपने संकल्प पत्र को याद रखते हुए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की नीव 1 फरवरी 2018 को रखी और किसानों के खाते में 6000 रूपए 3 किश्तो में 4 माह के अंतराल से देने प्रारम्भ किये| किसान इन रुपयों का उपयोग खाद बीज खरीदने में कर सके ,इसी उद्देश्य के साथ इस योजना को लांच किया|
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना कैसे काम करती है?

- किसान सम्मान निधि योजना में प्रत्येक किसान को 6000 रूपए का फायदा मिलता है,इस योजना में एक बार नजदीक ई-मित्र से फॉर्म भरवाना होता है| एक बार फॉर्म भरवाने के बाद यह फॉर्म 2 लेवल पर वेरीफाई किया जाता है,जिसमे प्रथम लेवल पटवारी के माध्यम से वेरीफाई किया जाता है,उसके बाद दूसरा लेवल कलेक्टर द्वारा वेरीफाई करके फॉर्म को केंद्र को भेज दिया जाता है| और इसके बाद किसान को 4 माह के अंतराल पर 2000 रूपए की किश्त सीधा किसान के अकाउंट में जमा कर दी जाती है| इस प्रकार बीजेपी सरकार की ये योजना किसानों के लिए एक वरदान साबित हो रही है| ये योजना एक दम पारदर्शिता पर खरी साबित होती है| इस योजना का सीधा फायदा किसानों को प्राप्त होता है|


  आवश्यक दस्तावेज
1 – आधार कार्ड
2 – खेत की जमाबंदी
3 – बैंक की पासबुक
4 – भामाशाह कार्ड / जन आधार कार्ड (राजस्थान में भामाशाह का परिवर्तित नाम जन आधार कार्ड ) 

ई- मित्र पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया और उसका शुल्क
- जब आप ई-मित्र पर जाते है तो आपको इस योजना से संबंधित दस्तावेज ई-मित्र संचालक को उपलब्ध करवाने होते है|
-अब ई-मित्र संचालक द्वारा आपसे कुछ जानकारी मांगी जाती है,जिसमे भूमि रिकॉर्ड का ब्यौरा,कृषि भूमि पर लोन आदि
- ये सब जानकारी भरने के बाद ई-मित्र संचालक आपका फॉर्म आपके आधार में दिए मोबाइल नंबर या फिंगर स्कैन के माध्यम से वेरीफाई करता है|
- फॉर्म वेरीफाई होने के बाद आपके मोबाइल पर इस योजना के रजिस्ट्रेशन नंबर का मैसेज आता है या ई-मित्र संचालक द्वारा आपको इस योजना का रजिस्ट्रेशन नंबर दे दिया जाता है|

इस योजना का फॉर्म भरने के लिए आपसे 25 रूपए(सरकारी+ई-मित्र शुल्क)+ प्रति दस्तावेज अपलोड करने के 10 रूपए लिए जाते है,इस योजना में अधिकतम आपसे 50 रूपए लिए जा सकते है| 
-भामाशाह/जन आधार कार्ड अपडेट करने के लिए आपको ई-मित्र संचालक को अलग से शुल्क देना होता है| ये शुल्क इस योजना में शामिल नहीं होता है|
- पंचायत समिति में लगे सरकारी ईमित्र पर आपको इस योजना फॉर्म के 15 रूपए से 25 रूपए देने होते है|

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ किन लोगों को नहीं मिलेगा 
    -ऐसे रिटायर्ड सरकारी अधिकारी जिनकी मासिक पेंशन 10 हजार से अधिक है|
-
    -ऐसे सरकारी कर्मचारी जो वर्तमान में किसी सरकारी पद पर आसीन है|
-  

    -  पेशेवर डॉक्टर, इंजीनियर,सीए आदि
    - कृषि भूमि के टैक्स को छोड़कर अन्य टैक्स फाइल भरने वाले व्यक्ति इस योजना का लाभ नहीं ले पाएंगे|
    - ऐसे व्यक्ति जिनके पास कृषि के क्षेत्र में काम आने वाले वाहनों के अतिरिक्त चार पहिया वाहन धारक इस योजना का लाभ नहीं ले पाएंगे| और ऐसे व्यक्ति अपने आप में सक्षम होते है|